ABOUT US

जनपद मुख्यालय से 25 किमी0 की दूरी पर स्थित महाविद्यालय अम्बेडकरनगर जनपद से जुड़े हुए हजारों गाँवों के छात्र-छात्राओँ की उच्च शिक्षा का एक प्रमुख केन्द्र हैं, क्योंकि 15 कि0मी0 की परिधि में ऐसा कोई भी महाविद्यालय नहीं है जहाँ छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा मिल सके ।

विशेषकर विधानसभा क्षेत्र टाण्डा की परिधि में बसे हुए ग्रामीण बच्चों की उच्च शिक्षा एक समस्या बनी हुई थी
जिसके समाधान एवं निराकरण हेतु ही इस महाविद्यालय की स्थापना की गई है।

स्थापना की संकल्पना करने मात्र से उद्धेश्य की पूर्ति नहीं हो जाती है अपितु संस्था का नामकरण भी अपना विशेष अस्तित्व रखता है। ऐसी परिस्थिति में एक मर्यादित पुत्रबधू को आदर्श माता-पिता का स्मरण हो जाना स्वाभाविक हो जाता है।

संदेश (प्रबन्धक)

ग्रामीण आंचल में प्रतिष्ठित इस संस्थान में आपका स्वागत है। देश,समाज एवं व्यक्ति की उन्नति एवं सुख-समृद्धि के लिए उच्च शिक्षा एवं अच्छे चरित्र की नितांत आवश्यकता है। इसी को ध्यान में रखकर ही इस महाविद्यालय की स्थापना सुदूर ग्राम्यांचल भसड़ा,टाण्डा, अम्बेडकरनगर में इस उद्देश्य को लेकर की गयी जिसमें ग्रामीण छात्र/छात्राओँ को अच्छी मिल सके ।
प्रारम्भ से ही यह महाविद्यालय छात्र/छात्राओं के चरित्र निर्माण एवं शैक्षणिक विकास के लिए प्रतिबद्ध है। यहां का प्रत्येक शिक्षक संस्था के प्रति समर्पित है तथा यहां के विद्यार्थी कर्मठ, समर्पित एवं अनुशासित हैं, नवीन छात्र/छात्राओं से भी हम सहयोग, अनुशासन एवं लगन की अपेक्षा करते हैं।विद्यार्थियों के गार्थ-पुस्तकालय,प्रयोगशाला,सेमिनार रुम एवं अन्य भवनों को आधुनिक रुप देकर एवं आवश्यक उपयोगी वस्तुओँ से सुसज्जित किया गया है।
आशा है आप के परिश्रम एवं शिक्षकों के प्रयास से यह संस्थान इस क्षेत्र में अग्रणीय महाविद्यालय का उत्तरदायित्व निभायेगा ।

प्रबन्धक

तारा देवी

संदेश (संरक्षक)

शिक्षा बालक के बौद्धिक, नैतिक एवं शारीरिक विकास का माध्यम है। विगत दो वर्षों से यह महाविद्यालय समय के अविरल प्रवाह में अनेकानेक नवीन आयामों को स्वयं में समाहित कर मूक साधक की भाँति अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर है।
मुझे यह कहते हुए बड़े हर्ष का अनुभव हो रहा है कि यह महाविद्यालय शिक्षा के साथ-साथ शारीरिक शिक्षा,छात्र/छात्राओँ के चरित्र निर्माण, स्वावलम्बन,कलात्मकता,संवेदनशीलता, पारस्परिक सद्भाव,क्षमाशीलता,सहभागिता,उद्यमशीलता,नियमितता और सहिष्णुता आदि अनेकानेक चारित्रिक गुणों का संवर्धन करने के लिए सदैव प्रयत्नशील है।
मानवीय मूल्यों और उत्तम विचारों से परिष्कृत और ऊर्जावान छात्र/छात्राएँ आत्म विश्वास के साथ कर्तव्यपथ पर अग्रसर हैं, सुसंस्कारित पीढ़ी के निर्माण में स्वयं को समर्पित करने वाला यह महाविद्यालय अपने नाम के अनुरुप आपकी आशा और विश्वास का सहभागी बनकर सदैव अग्रणी बना रहेगा । इसी आकांक्षा के साथ……

संरक्षक

राम पूजन प्रजापति